Advertisement

कोरोना संकट की घड़ी में प्रवासियों के बिहार वापसी के बाद जहां एक तरफ अधिकाँश जिलों के क्वारंटाइन सेंटर में कुव्यवस्था की तस्वीर सामने आ रही है. इस हालात में भी प्रवासियों का विद्रोह, सड़क जाम, प्रदर्शन देखने के लिए मिल रहा वहीं बिहार के दरभंगा जिले से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जो कि बिहार में तमाम पंचायतों में बनें क्वारंटाइन सेंटर और पंचायतों के मुखिया के लिए नजीर बन सकती है.

Advertisement


दरभंगा जिले के बिरौल प्रखंड अंतर्गत सहसराम पंचायत की यह तस्वीर हैं जहां दूसरे राज्यों से लौटे अपने पंचायत के प्रवासियों को सहसराम के मुखिया ने क्वारंटाइन अवधि पूरा करने के बाद मिथिला पद्धति परंपरा के अनुसार पीले रंग से रंगी हुई धोती, गमछा,  गंजी अंगवस्त्र देकर कर घर विदा किया.

ये प्रवासी मजदूर पिछले 14 दिनों से बिरौल प्रखंड के सहसराम पंचायत में बनें क्वारंटाइन सेंटर राजकीय मध्य विद्यालय सहसराम में रह रहे थे. शांतिपूर्ण वातावरण में क्वारंटाइन अवधि पूरा करने के बाद इन सभी को मुखिया ने ससम्मान घर विदा किया. मुखिया के इस काम की जमकर तारीफ हो रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here