प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर
Advertisement

पटना डेस्क: प्रवासी मजदूर घर आए हैं तो सरकार के सामने उन्हें रोजगार देने की बड़ी समस्या आन पड़ी है। इसी कड़ी में सरकार के सामने दूसरी समस्या है कि इतनी बड़ी संख्या में प्रवासी घर आए हैं तो जनसंख्या बढ़ोतरी भी तेजी से हो सकती है। इस संभावित खतरे को भांपते हुए बिहार सरकार ने बड़ा निर्णय किया है।

Advertisement

परिवार नियोजन का तरीका सीखेंगे प्रवासी:

स्वास्थ्य विभाग की ओर से यह पहल की है कि प्रवासियों को परिवार नियोजन का तरीका बताया जाएगा और इसके लिए जरूरी अस्थाई साधनों का वितरण भी किया जाएगा। इसके तहत 14 दिनों की क्वारंटीन अवधि के दौरान प्रवासियों को परिवार नियोजन का तरीका बताया जाएगा और क्वारंटीन अवधि पूरा करने के बाद कंडोम देकर विदा किया जाएगा।

गोपालगंज डीएम ने दी जानकारी:

जानकारी मिली है कि बिहार के गोपालगंज जिले में स्वास्थ्य विभाग ने इस तरह के पहल की शुरुआत की है। गोपालगंज के डीपीएम धीरज कुमार ने प्रेस को बताया कि 14 दिन की क्वारंटाइन अवधि पूरा कर चुके प्रवासियों के बीच परिवार नियोजन के लिए जरूरी अस्थाई साधनों का वितरण होगा। डोर टू डोर हेल्थ चेकअप के दौरान पोलियो के सुपरवाइजर 14 दिन की होम क्वारंटाइन की समयसीमा पूरी कर चुके प्रवासियों को विभाग की तरह से कंडोम उपलब्ध कराया जाएगा। कंडोम सिर्फ उन्हीं लोगों को मिलेगा, जिन्होंने 14 दिनों की क्वारंटाइन अवधि पूरी कर ली है।

नवभारत टाइम्स की खबर के अनुसार, केयर इंडिया के परिवार नियोजन समन्वयक अमित कुमार ने बताया कि डोर टू डोर हेल्थ चेकअप के दौरान पोलियो अभियान के सुपरवाइजर के माध्यम से प्रवासियों को परिवार नियोजन के बारे में जानकारी दी जाएगी। इसके अलावा परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों का वितरण भी होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here