Advertisement

पटना डेस्क: कोरोना महामारी के बीच चक्रवाती तूफान एमफन (Cyclone Amphan) तेजी से भारतीय तट की तरफ बढ़ रहा है। मौसम विभाग की तरफ से जारी ताजा अपडेट में कहा गया है कि ये तूफान और भी खतरनाक हो गया है। हवा की रफ्तार लगभग हर घंटे बढ़ रही है। पिछले 6 घंटे के दौरान हवा की रफ्तार 13 किलोमीटर प्रति घंटा थी। लेकिन ये जैसे ही तट के और करीब पहुंचेगा। इसकी रफ्तार 220 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है। अगले 6 घंटे में ये तूफान और खतरनाक रूप ले सकता है। इस तूफान के कारण ओडिशा, पश्चिम बंगाल, मेघालय समेत 8 राज्यों में अलर्ट है।

Advertisement

बता दें कि दो दिन पहले मौसम विभाग ने आशंका जताई थी कि तूफान की रफ्तार 190 किलोमीटर/घंटे रह सकती है। आइए इस तूफान से जुड़ी 10 बड़ी बातों पर नजर डालते हैं कि आखिर ये तूफान फिलहाल कहां पहुंचा है और इस आपदा से निपटने के लिए सरकार की क्या तैयारियां हैं?

1. फिलहाल कहां है तूफान:

चक्रवाती तूफान एमफन इस वक्त बंगाल की खाड़ी के मध्य और दक्षिणी हिस्से में है। ये उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ रहा है। सोमवार सुबह 2 बजकर 30 मिनट पर ये ओडिशा के पारादीप से 980 किलोमीटर की दूरी पर था। जबकि बंगाल के दीघा तट से इसकी दूरी फिलहाल 1090 किलोमीटर है।

2. कब टकराएगा तट से:

मौसम विभाग के मुताबिक ये तूफान 20 मई को दोपहर और शाम के बीच पश्चिम बंगाल के दीघा और बांग्लादेश के हातिया द्वीप के बीच तट (Landfall) से टकराएगा।

3. ओडिशा में बारिश:

ओडिशा के कई इलाकों में हल्की से तेज बारिश शुरू हो गई है। यहां के 12 जिलों में तूफान के साथ भारी बारिश की आशंका जताई गई है। राज्य के 12 तटीय जिले गंजम, गजपति, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, जाजपुर, कटक, खुर्दा और नयागढ़ में हाई अलर्ट पर हैं।

4. पश्चिम बंगाल में बारिश:

चक्रवात के कारण उत्तर एवं दक्षिण 24 परगना जिले, कोलकाता, पूर्वी एवं पश्चिमी मिदनापुर, हावड़ा और हुगली सहित गंगाई पश्चिम बंगाल के तटवर्ती जिलों में 19 मई को कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश और छिटपुट स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है।

5. हवा की रफ्तार:

19 मई की सुबह से ओडिशा में 65 किलोमीटर की रफ्तार से हवा चल सकती है। हवा की रफ्तार लगातार बढ़ सकती है। सोमवार को पश्चिम बंगाल के तटीय इलाके में हवा की रफ्तार 60-70 किलोमीटर प्रति घंटा रह सकती है। जबकि जिस दिन ये तूफान तट से टकराए उस दिन हवा की रफ्तार 220  किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है।

6. NDRF की टीम तैनात:

चक्रवात ‘एमफन’ खतरे के मद्देनजर रविवार को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में NDRF की टीम तैनात कर दी गई। इस बीच ओडिशा ने कहा कि वो इस चक्रवात से बुरी तरह से प्रभावित होने वाले 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए तैयार है।

7. राज्य सरकार तैयार:

ओडिशा ने बिजली और पानी की आपूर्ति बहाल करने, सड़कों को साफ करने, राहत एवं बचाव अभियान फौरन शुरू करने के लिए भी खाका तैयार कर लिया है।

8. मछुआरों को समुद्र में जाने की मनाही:

ओडिशा सरकार ने कहा है कि समुद्र की स्थिति, दक्षिण और आसपास के बंगाल की खाड़ी और अंडमान सागर से अधिक तेज होगी, जिसके चलते मछुआरों को दक्षिण और मध्य महासागर में नहीं जाने की चेतावनी दी गई है।

9. अलर्ट: 

भुवनेश्वर विज्ञान केंद्र के निदेशक एच आर बिस्वास ने कहा, ‘अगले 12 घंटों में चक्रवात के तीव्र होने की संभावना है। 24 घंटों के बाद भी भारी बारिश होने की संभावना है।’

10. कहां है मॉनसून: 

भारतीय मौसम विभाग के चक्रवात चेतावनी विभाग की ओर से नवीनतम रिलीज के अनुसार, दक्षिण पश्चिम मॉनसून दक्षिण बंगाल की खाड़ी, निकोबार प्रायद्वीप और अंडमान सागर के कुछ इलाकों में प्रवेश कर गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here