Advertisement


Advertisement

PATNA : कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से देश भर के स्कूल और कॉलेज कई महीनों से बंद हैं. ऐसे में बच्चों की पढ़ाई टीवी और ऑनलाइन क्लास के माध्यम से हो रही है. गरीब होने की वजह से जब एक महिला अपने बच्चे को पढ़ाई के लिए टीवी उपलब्ध नहीं करा पाई तो उसने जो किया वो जानकर आप भी उस मां को सलाम करने लगेंगे. उस गरीब मां ने बच्चों की पढ़ाई के लिए अपने सुहाग की निशानी मंगलसूत्र तक को गिरवी रख दिया. मंगलसूत्र गिरवी रखने के बाद उससे मिले पैसों से महिला ने टीवी सेट खरीद लिया. यह मामला कर्नाटक के गडग जिले का है.

गडग के नागानुर गांव में रहने वाली कस्तूरी चलवदी ने अपने चार बच्चों की पढ़ाई के लिए 12-ग्राम सोने के मंगलसूत्र को एक टेलीविजन सेट खरीदने के लिए गिरवी रखा दिया. उसने ऐसा इसलिए किया ताकि बच्चे दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाली कक्षाओं को देख कर पढ़ सकें. जैसे ही इस बात की जानकारी तहसीलदार को हुई उन्होंने अधिकारियों को गांव में इसकी जांच करने के लिए भेज दिया. मामला बढ़ता देख जिस व्यक्ति ने पैसे उधार देने के लिए मंगलसूत्र गिरवी के लिए लिया था वो उसे वापस करने के लिए तैयार हो गया. उसने परिवार से कहा कि जब भी वे पैसा वापस करने में सक्षम हो तो लौटा दें.

कस्तूरी चलवदी ने कहा अब उनके बच्चे दूरदर्शन देखकर पढ़ते हैं. उन्होंने कहा, हमारे पास टीवी नहीं था, बच्चे दूसरों के घर जाते थे. शिक्षकों ने कहा कि टीवी देखो. बच्चों का भविष्य दांव पर था. किसी ने कर्ज नहीं दिया इसलिए मैंने सोचा कि मैं मंगलसूत्र गिरवी रखकर टीवी लाऊंगी. बता दें कि महिला का पति मुत्तप्पा दिहाड़ी मजदूर है. कोरोना के कारण उन्हें कोई काम नहीं मिल रहा था. उनके बच्चे कक्षा 7 और 8 में पढ़ रहे हैं और वो क्लास नहीं कर पा रहे थे. उनकी बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है. मामला सामने आने के बाद स्थानीय लोगों ने भी गरीब महिला के टीवी खरीदने के लिए पैसा जमा किया. मामले ने जब राजनीतिक तूल पकड़ा तो कांग्रेस विधायक ज़मीर अहमद ने 50000 और मंत्री सीसी पाटिल ने 20000 रुपये परिवार को दिए. लोगों का इस तरह समर्थन मिलने से परिवार काफी खुश है.



Source/First Published on

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here