Advertisement


Advertisement

PATNA : बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में जांच पड़ताल जारी है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) इसमें मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज करने के बाद रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार की तरफ से किए गए खर्च की पड़ताल कर रहा है. फिलहाल, इंडिया टुडे को भी सुशांत सिंह राजपूत के बैंक अकाउंट की डिटेल्स मिली है. इससे पता चला है कि सुशांत सिंह राजपूत के बैंक खाते में 90 दिनों में बैलेंस 4.64 करोड़ से घटकर 1.4 करोड़ रुपये रह गया. इंडिया टुडे को पता चला है कि प्रवर्तन निदेशालय इसकी जांच कर रहा है. जांच एजेंसियां विशेष रूप से उस रकम की भी जांच कर रही हैं जिसे रिया चक्रवर्ती के निजी खर्चों और उनके परिवार के सदस्यों के खाते में ट्रांसफर किया गया था.

बैंक खाते की डिटेल्स के मुताबिक 14 अक्टूबर 2019 को सुशांत सिंह के अकाउंट में 4.7 करोड़ से ज्यादा रुपये थे. उसी दिन रिया के भाई शोविक के खाते में हवाई टिकट के लिए 81,901 रुपये ट्रांसफर किए गए. उसके अगले दिन यानी 15 अक्टूबर को रिया के भाई के होटल के खर्चों के लिए 4.7 लाख रुपये ट्रांसफर किए गए. उसी दिन, दिल्ली के होटल ताज में ठहरने के लिए फिर 4.3 लाख रुपये ट्रांसफर किए गए. 16 अक्टूबर को दिल्ली के लिए रिया और शोविक के टिकट की खातिर 76,000 रुपये ट्रांसफर किए गए थे.

सुशांत सिंह के बैंक खाते के डिटेल्स से पता चलता है कि उनके बैंक अकाउंट से अगले कुछ दिनों तक लाखों रुपये ट्रांसफर किए गए. 14 नवंबर को रिया के नाम पर 1.5 लाख रुपये का एक और लेनदेन हुआ. 20 और 21 नवंबर 2019 को रिया के मेकअप और खरीदारी पर 75000 रुपये से अधिक खर्च किए गए थे. 24 नवंबर को रिया ने 22,220 रुपये की शॉपिंग की थी. सुशांत सिंह ने 25 नवंबर को रिया के भाई की ट्यूशन फीस की पेमेंट भी की थी. नियमित आधार पर कई ऐसे लेनदेन हुए जो सुशांत सिंह के बैंक स्टेटमेंट के अनुसार रिया के निजी खर्चों से संबंधित थे. सुशांत सिंह के पैसे का एक अच्छा हिस्सा नकद में लेनदेन किया गया था और इस तरह के लेनदेन का कारण अभी तक ज्ञात नहीं है कि किसलिए वे पैसे खर्च किए गए थे. हालांकि, एक्टर के पैसे का एक बड़ा हिस्सा अपने निजी खर्चों और टैक्स भुगतान के लिए भी इस्तेमाल किया गया था. 1.5 करोड़ रुपये से ज्यादा का जीएसटी का भुगतान किया गया था. बहरहाल, एक्टर के परिवार का दावा है कि रिया चक्रवर्ती के परिवार ने सुशांत के साथ 15 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है.



Source/First Published on

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here