Advertisement


Advertisement

PATNA : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को साझे तौर पर बिहार के अति महत्वपूर्ण पुल महात्मा गांधी सेतु के पश्चिमी लेन के सुपर स्ट्रक्चर का लोकार्पण किया। इस मौके पर दोनों वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े हुए थे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी सेतु के पश्चिमी लेन के सुपर स्ट्रक्चर के बन जाने से लोगों के आवागमन में काफी सुविधा होगी। आज बहुत ही उपयोग कार्य पूर्ण हुआ है। कहा कि इसके दूसरे हिस्से पश्चिमी लेन का निर्माण कार्य भी 18 माह में पूरा हो जाएगा। शीघ्र इसका कार्य शुरू होगा। सेतु का सफर आसान होने से कारोबार को काफी बल मिलेगा। वैशाली समेत उत्तर बिहार के कई जिलों से हरी सब्जी, फल और दूध की आवक तेज होगी और समय पर गंतव्य तक सामान पहुंच सकेंगा। पिछले वषोंर् के दौरान सेतु पर महाजाम के कारण कई बार दूध, सब्जी जैसे सामान बर्बाद हो जाया करते थे। आवागमन सामान्य होने से राजधानी की थोक मंडियों से माल की आपूर्ति भी सहज तरीके से हो सकेगी।

गांधी सेतु के जर्जर कंधों पर दिन प्रतिदिन वाहनों का बढ़ता बोझ महाजाम का कारण बनने लगा था। इससे साढ़े पांच किलोमीटर का सफर तय करने में यात्रियों को तीन से चार घंटे लग जाया करते थे। महाजाम में फंसी एंबुलेंस में कई बार तो रास्ते में ही मरीज की जान चली जाती थी। इस जाम में फंसकर कई दूल्हे राजा का शुभमुहूर्त भी निकल गया। किसी की ट्रेन छुटती थी तो कोई पैदल ही गंगा पार करने पर मजबूर हो जाता था। सूबे के खास से लेकर आम लोगों को इस जाम को झेलने की मजबूरी थी। इस सेतु से प्रतिदिन लगभग 40 हजार छोटी-बड़ी गाड़ियां गंगा पार करती है। चार दशक पहले सेतु के बनने के बाद हाजीपुर राजधानी के बिल्कुल पास हो गया था पर जाम ने धीरे-धीरे फिर से दूरी बढ़ा दी थी। गांधी सेतु के नवीनीकरण से सूबे के लोगों ने राहत की सांस ली है। अब चंद मिनटों में राजधानीवासी हाजीपुर में होंगे। लोगों को रोज-रोज के जाम से छूटकारा मिलेगा और गंभीर अवस्था में उत्तर बिहार से आ रहे मरीजों को समय पर अस्पतालों में पहुंचाकर जान बचायी जा सकेगी। नये पुल से खासकर सिटी के लोगों को काफी सुविधा होगी। मालों की ढुलाई आसानी से हो सकेगी और दैनिक यात्री शाम ढलते ही घर पहुंच सकेंगे।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि इस पुल के ऊपरी हिस्से के निर्माण में कई तरह की समस्याओं और अनुभव से गुजरना पड़ा। अब यह आम लोगों के लिए उपलब्ध हो गया है। इस नए हिस्से पर लोग गुजरेंगे तो उन्हें एक नई तरह की अनुभूति होगी। वहीं केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि बड़े-बड़े पुलों के निर्माण का हमें अनुभव है। पर, गांधी सेतु के सुपर स्ट्रक्चर को तैयार करने में जो समस्या सामने आई, वह पहले कभी नहीं आई। आईआईटी रूड़की से लेकर विदेशों तक के विशेषज्ञों की राय इस पर ली गई। कंक्रीट स्ट्रक्चर के बदले स्टील का स्ट्रक्चर लगाया गया। यह एक अलग तरह का अनुभव है। इस पर एक किताब छापी जाएगी।



Source/First Published on

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here